निज हड्डी से लड़त रहेले माई

निज हड्डी से लड़त रहेले माई

By:
Posted: September 6, 2021
Category: कविता
Comments: 0

भोला प्रसाद आग्नेय

कुछ न कुछ काम करत रहेले माई।

निज हड्डी से लड़त रहे ले माई।।

 

हमरे जिनगी के ऊ परिभाषा ह,

स्वर्णिम भविष्य खातिर अभिलाषा ह,

कपारे पर बोझा पूरा घर के,

लिहले दिन भर चलत रहेले माई।

 

एगो फलसफा ओकरे अंखियन में,

भरल बा अमृत ओकरे शब्दन में,

दुनिया से कतनो दर्द मिले ओके,

बाकिर बाहर हंसत रहेले माई।

 

ह‌उवे उहे व्याकरण अउरी भाषा,

ताकि बन न जाईं हम कहीं तमाशा,

सुंदर नीमन संस्कार देवे बदे,

धीरे-धीरे गलत रहेले माई।

 

हम शूल भले बाकिर ऊ हरदम फूल,

माफ़ करे मोर चाहे जतना भूल,

देखावे खातिर रस्ता हमरा के,

दीया नीयर बरत रहेले माई।

 

ऊ लक्ष्मी दुर्गा सरस्वती काली,

धन बल विद्या उमंग देवे वाली,

हमके धरम करम संस्कृति सभ्यता,

हरदमे समुझावत रहेले माई।

 

 

 

Hey, like this? Why not share it with a buddy?

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


About us

भोजपुरी भाषा, साहित्य, संस्कृति  के सरंक्षण, संवर्धन अउर विकास खातिर, देश के दशा अउर दिशा बेहतर बनावे में भोजपुरियन के योगदान खातिर अउर नया प्रतिभा के मंच देवे खातिर समर्पित  बा हम भोजपुरिआ। हम मतलब हमनी के सब। सबकर साथ सबकर विकास।

भोजपुरी के थाती, भोजपुरी के धरोहर, भूलल बिसरल नींव के ईंट जइसन शख्सियत से राउर परिचय करावे के बा। ओह लोग के काम के सबका सोझा ले आवे के बा अउर नया पीढ़ी में भोजपुरी  खातिर रूचि पैदा करे के बा। नया-पुराना के बीच सेतु के काम करी भोजपुरिआ। देश-विदेश के भोजपुरियन के कनेक्ट करी भोजपरिआ। साँच कहीं त साझा उड़ान के नाम ह भोजपुरिआ।


Contact us



Newsletter

Your Name (required)

Your Email (required)

Subject

Your Message