भोजपुरी सिनेमा में देशभक्ति

भोजपुरी सिनेमा में देशभक्ति

By:
Posted: October 12, 2021
Category: सिनेमा
Comments: 0

लेखक- मनोज भावुक

अमन वतन के बनल रहे बस, हवा में थिरकन बनल रहे बस

इहे बा ख्वाहिश वतन के धरती, वतन के कण-कण बनल रहे बस

जब बात वतन में अमन के होई त देशभक्ति के बात होखबे करी। जब देशभक्ति के बात होई त राजनीतिक, कूटनीतिक आ सीमा सुरक्षा के हाल-चाल भी होई। सिनेमा में भी भइल बा।

रउआ बॉलीवुड के फिलिम देखब त सीधा पता चली कि भारत के सबसे बड़ दुश्मन पाकिस्तान बा, ओकरा बाद चीन बा। शुरुआती दौर के बॉलीवुड फिलिम में अंग्रेजन के कइल जुल्म आ शासन के केंद्र में रख के खूब फिलिम बनल। ओकरा बाद भारत पाकिस्तान के बीच युद्ध पर फिलिम बने लागल। धीरे-धीरे फिलिम कूटनीति, गुप्तचर, सीमा-सुरक्षा आ बंटवारा पर फोकस होखे लागल। बाद में राजनीतिक स्थिति बदलल, आतंकवाद के बोलबाला भइल त देशभक्ति फिलिम के केंद्र में जिहाद, आतंकवाद अउरी अलगाववाद के स्थान मिलल। बॉलीवुड में खेल से जुड़ल अउरी स्वतंत्रता सेनानी के ऊपर आधारित फिलिम भी देशभक्ति के रंग में रंगके बनल बा। बॉलीवुड के देशभक्ति फिलिम में मनोज कुमार, राजकुमार, धर्मेन्द्र, सनी देओल, आमिर खान फेर अक्षय कुमार, जॉन अब्राहम जइसन स्टार खूब फिलिम बनवलें अउरी बनावsतारें।

बात अगर हॉलीवुड के होखे त अमेरिका में बने वाला ज्यादातर पेट्रियोटिक फिलिम वॉर-फिलिम होला जे में युद्ध के महिमा-मंडन होला। एकरा पीछे अमेरिका के राजनीतिक स्थिति भी बा। सभके पता बा कि अमेरिका विश्व के सबसे बड़ हथियार सप्लायर देश ह। मार्वल सिनेमैटिक यूनिवर्स जवन अपना सुपर हीरो फिलिम सीरीज जइसे आयरनमैन, कैप्टन अमेरिका आ एवेंजर्स खातिर जानल जाला, ओकरा केंद्र में भी हथियार अउरी युद्ध ही बा। आयरनमैन कहाये वाला टोनी स्टार्क के कैरेक्टर भी त अमेरिका के सबसे बड़ आ आधुनिक हथियार निर्माता बा। अइसहीं पाकिस्तान में बनल देशभक्ति फिलिम के केंद्र में कश्मीर के भारत से छीने के पाकिस्तानी मंशा रहेला। हिंदुस्तान से कवनो अनजान दुश्मनी के बदला रहेला। इहेे हाल हर देश के फिलिमन के बा। रउआ कहीं के अउरी कौनो भाषा के सिनेमा उठा लीं, ओकरा देशभक्ति फिलिम में तत्कालीन राजनीतिक, सामाजिक अउरी कूटनीतिक समस्या आ इतिहास के कवनो राष्ट्रीय मुद्दा ही थीम होला। देशभक्ति फिलिम में रिसर्च के बड़ा काम होला लेकिन भोजपुरी सिनेमा में ई रिसर्च गायबे रहेला।

एही तरह भोजपुरी भी एगो बड़ आ फलत-फूलत सिनेमा इंडस्ट्री बा, जवना के निर्माता-निर्देशक लोग में हाल के कुछ साल से देशभक्ति फिलिम बनावे के होड़ मचल बा। लेकिन अगर रउआ हॉलीवुड-बॉलीवुड के भूमिका पढ़ के सोचत होखब कि भोजपुरी में भी अइसहीं राजनीतिक परिदृश्य देखावत देशभक्ति फिलिम बन रहल बा, त रुक जाईं, राउर सोचल गलत साबित होई। भोजपुरी के देशभक्ति फिलिम अपना अलग ही परी-कथा अउरी परिस्थिति के निर्माण कइलेबा। भोजपुरी के अधिकांश देशभक्ति फिलिम के हीरो पाकिस्तान जाता अउरी उहां के एगो सुन्दर मुस्लिम लड़की ले आवता भा पाकिस्तानी लड़की भारत आवतिया आ एगो देशभक्त आ वन मैन आर्मी टाइप लड़का से टकरा जा तिया। उ लड़की के भारतीय लड़का से प्यार हो जाता। उ ओकरा घर-परिवार में रच बस जा तिया। फेर वापस अपना वतन पाकिस्तान लौट जा तिया आ लइका अपना प्यार के पावे खातिर भा देश के दुश्मन आ अपना प्यार के दुश्मन पाकिस्तानी से लड़े खातिर बिना वीजा-पासपोर्ट, पाकिस्तान में बहुत आसानी से घुस जाता। पाकिस्तानी सेना आ आतंकवादी के नाक से चना चबवावता आ पाकिस्तानी दुलहिनिया लेके भारत आ जाता। ई जवन हम एगो कॉमन कांसेप्ट बतवनी ह, इहे पिछला कुछ साल में आइल अधिकांश भोजपुरी फिलिम के पटकथा के आधार बा। अपवाद हर जगह होला, ओइसहीं इहां भी बार्डर-सिक्योरिटी आ आर्मी के ऊपर कुछेक फिलिम बन गइल बा। भोजपुरी फिलिम के स्त्री-विरोधी मानसिकता एह देशभक्ति फिलिमन में भी कवनो ना कवनो रूप में प्रकट होता। अगर रउआ ई देशभक्ति फिलिमन में हॉलीवुड-बॉलीवुड जइसन गंभीर बात, राजनीतिक आ कुटनीतिक विमर्श आ कवनो सार्थक सन्देश ढूंढे के कोशिश करब त लगभग नाकामी ही मिली। फिर भी, भोजपुरी में देशभक्ति फिलिम बनऽता आ बनावे के कोशिश होता त एह कोशिश के सराहना होखे के चाहीं, काहें कि पिछला दौर में त एको देशभक्ति फिलिम बनावे के कोशिश नइखे भइल।

भोजपुरी के देशभक्ति फिलिम

भोजपुरी सिनेमा में ज्यादातर देशभक्ति फिलिम ‘भारत-पाकिस्तान’ के केंद्र में रख के बनल बा। एकर शुरुआत 2015 में दिनेशलाल यादव निरहुआ के फिलिम ‘पटना से पाकिस्तान’ के बनला से भइल रहे। ए फिलिम के लेखक आ निर्देशक संतोष मिश्रा बाड़ें। ए फिलिम के कहानी कबीर नाम के एगो युवा के बा जे आंतकवादी द्वारा कइल बम विस्फोट में अपना पूरा परिवार के खो देता। उ आतंकवादियन के खिलाफ आपन लड़ाई में पहिले सरकार से मदद मांगता, जवना पर सरकार के कवनो खास प्रतिक्रिया नइखे होत। ओकरा बाद भी उ निराश नइखे होत बल्कि अकेलही पाकिस्तान जा के आतंकवादी सन के खिलाफ लड़ाई लड़ता। एही बीच ओकर मुलाकात शहनाज नाम के एगो लड़की से होता। ए दूनो जाने के बीच धीरे-धीरे इश्क हो जाता। आगे के कहानी भी बहुते दिलचस्प बनल बा। एह फिलिम के सफलता भोजपुरी में देशभक्ति फिलिम के ट्रेंड शुरू कर देहलस। फिलिम में निरहुआ के प्रेमिका के भूमिका में काजल राघवानी रहली जिनके बम विस्फोट में मौत हो जाता। पाकिस्तानी लड़की के रोल में आम्रपाली दुबे रहली।

ई त बात भइल ट्रेंड शुरू करे वाला फिलिम के। एकरा से पहिले अगर भोजपुरी फिलिम के पुरनका दौर के बात कइल जाव त ओ काल में अइसन कौनो उल्लेखनीय फिलिम नइखे जेकरा के देशभक्ति फिलिम के तमगा देहल जाव। बाकी आधुनिक दौर शुरू भइल त एगो फिलिम जरूर आइल रहे ‘आपन माटी आप देश’। 2009 के ई फिलिम में रविकिशन आ हिंदी टीवी के नामचीन कलाकार सुदेश बेरी मुख्य भूमिका में रहलें। फिलिम के दूसर बड़ कलाकार में सुरेन्द्र पाल आ सिकंदर खरबंदा रहे लोग। फिलिम के कहानी एगो किसान आ जवान के रहे। उहे किसान जब खेत में होखे त किसान आ जब सीमा पर जाए त जवान। फिलिम में ई समस्या के भी दिखावल गइल रहे कि कइसे एगो जवान देश खातिर अउर अपना लोग खातिर सब कुछ त्याग के सीमा पर लड़ेला आ उहे समाज के कुछ लोग ओकरा पत्नी, परिवार के परेशान करेला।

विशुद्ध आर्मी वाला एगो अउर फिलिम 2018 में पवन सिंह के आइल रहे। उ फिलिम के नाम रहे ‘मां तुझे सलाम’। असलम शेख द्वारा लिखित अउर निर्देशित ई फिलिम भी ब्लॉकबस्टर साबित भइल। फिलिम लगभग 17 करोड़ के लागत से बनल आ सिनेमाघर में सफल रहल। फिलिम के निर्माण यशी फिल्म्स कइलस। एह फिलिम में पवन सिंह बजरंगी अली खान के एगो अइसन किरदार में बाड़न जे हर धरम के समान मानता। एह फिलिम में आगे, जब भारत पर आतंकवादी हमला होता त बजरंगी अली खान पाकिस्तान के साजिश के खिलाफ उठ खड़ा होता। एह फिलिम में पवन सिंह के साथे मधु शर्मा, अक्षरा सिंह, सुरेंद्र पाल जइसन कलाकार भी बाड़न।

खेसारी के एगो फिलिम ‘आतंकवादी’2017 में रिलीज भइल रहे। एह फिलिम से खेसारी बहुते वाहवाही बटोरले रहलन। शुभी शर्मा उनका साथे लीड रोल में रहली। भारत पाकिस्तान ही मुख्य विषय रहे।

भारत-पाकिस्तान अउरी पाकिस्तानी लड़की के इर्द-गिर्द बनल फिलिम में कई गो नाम बा जवन निरहुआ के ‘पटना से पाकिस्तान’ के बाद बनल। चिंटू पाण्डेय के ‘दुल्हन चाहीं पाकिस्तान से’- एक अउरी दू, विशाल सिंह के ‘ले आइब दुलहिनिया पाकिस्तान से’, रानी चटर्जी के ‘इलाहाबाद से इस्लामाबाद’, यश मिश्र के ‘इंडिया वर्सेज पाकिस्तान’ अउर विक्रांत सिंह के ‘पाकिस्तान में जय श्री राम’ आदि।

देशभक्ति फिलिमन के होड़ में निरहुआ भी आपन बैनर तले एगो फिलिम ‘बॉर्डर’ बनइलन। एह फिलिम के निर्देशक संतोष मिश्रा बाड़न। ई एगो मल्टीकास्ट फिलिम रहे अउर भोजपुरी सिनेमा के देशभक्ति फिलिमन में मील के पत्थर साबित भइल।

पवन सिंह के ‘गदर’ फिलिम अपना गीत खातिर बड़ा मशहूर भइल बाकी एकरो कहानी कमोबेश पाकिस्तान में जाके उहां के लड़की से इश्क कइला के रहे। फिलिम में पवन सिंह एगो ब्राह्मण के बेटा रहलें जे धर्म-कर्म में काफी ध्यान देता आ ओकरा एगो पाकिस्तानी मुसलमान लड़की से प्यार हो जाता।

निरहुआ के 2019 में एगो देशभक्ति फिलिम ‘शेर-ए-हिंदुस्तान’ मार्च के समय में आइल जवन भारत-पाकिस्तान के कहानी से हटके भारत-नेपाल के सीमा से हो रहल आतंकी घुसपैठ आ तश्करी पर आधारित रहे। फिलिम के लेखक-निर्देशक मनोज नारायण विषय बदललें, जवन अच्छा बात बा। फिलिम में निरहुआ एगो कमांडो के भूमिका में रहलें। उनका अपोजिट हीरोइन नीता धुन्गना रहली जे नेपाली फिलिम इंडस्ट्री के बड़ नाम बाड़ी।

पवन के 2019 में दूगो फिलिम आइल। एगो ‘क्रेक फाइटर’ आ दूसरका ‘जय हिन्द’। ‘क्रेक फाइटर’ एगो एक्शन फिलिम ह लेकिन एकरा कहानी में देशभक्ति के थोड़ा सा रंग बा। फिलिम में पवन सीक्रेट सर्विस के एजेंट के रोल में बाड़ें जे आपन पहचान छुपा के एगो ड्राइवर के रूप में रहऽता लेकिन माफिया के ई असलियत पता चल जाता। ई फिलिम लगभग 3 करोड़ के लागत से बनल आ सिनेमाघर में अच्छा कलेक्शन कइलस। उनके दूसरका फिलिम ‘जय हिन्द’ देशभक्ति फिलिम रहे आ एहमें वापस से पाकिस्तान वाला रंग रूप देखावल गइल रहे।

इहे कुछ उल्लेखनीय देशभक्ति फिलिम बा जवन भोजपुरी में बनल। देशभक्ति फिलिम बनावल एगो गंभीर आ शोधपरक काम ह जवना पर भोजपुरी फिल्मकार आ लेखक लोग ध्यान नइखे देत। भोजपुरी में भी अउर भाषा के इंडस्ट्री जइसन तनी गंभीरता से आ विषय के गहनता से अध्ययन करके देशभक्ति भा राजनीतिक फिलिम बनित त कुछ अच्छा अउरी फ्रेश सिनेमा दर्शकन के मिलित।

Hey, like this? Why not share it with a buddy?

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


About us

भोजपुरी भाषा, साहित्य, संस्कृति  के सरंक्षण, संवर्धन अउर विकास खातिर, देश के दशा अउर दिशा बेहतर बनावे में भोजपुरियन के योगदान खातिर अउर नया प्रतिभा के मंच देवे खातिर समर्पित  बा हम भोजपुरिआ। हम मतलब हमनी के सब। सबकर साथ सबकर विकास।

भोजपुरी के थाती, भोजपुरी के धरोहर, भूलल बिसरल नींव के ईंट जइसन शख्सियत से राउर परिचय करावे के बा। ओह लोग के काम के सबका सोझा ले आवे के बा अउर नया पीढ़ी में भोजपुरी  खातिर रूचि पैदा करे के बा। नया-पुराना के बीच सेतु के काम करी भोजपुरिआ। देश-विदेश के भोजपुरियन के कनेक्ट करी भोजपरिआ। साँच कहीं त साझा उड़ान के नाम ह भोजपुरिआ।


Contact us



Newsletter

Your Name (required)

Your Email (required)

Subject

Your Message