का कहीं ए हरिचरना के माई

का कहीं ए हरिचरना के माई

By:
Posted: October 22, 2021
Category: कविता
Comments: 0

सुरेश कांटक

का कहीं ए हरिचरना के माई

जिनगी बेहाल भइल होत ना कमाई

चारो ओरी ताकतानी केहू ना सहाई

कइसे के बाल बाचा जिनगी बचाईं

 

सगरो बाजार बंद कइसे का बेचाई

बंद इसकूल बाटे होखे ना पढ़ाई

करजो भेटात नइखे आवेला रोआई

सँझिया सबेर कइसे चुल्हवा जोराई

का कहीं ए हरिचरना के माई !

 

हीत नाता कामे नाहीं आवे कवनो भाई

लागेला कि दुनिया बनल बा कसाई

मुअलो प अब केहू कामे नाहीं आई

दूरे दूरे सभे रहे के से हम बताईं

का कहीं ए हरिचरना के माई !

 

सगरो बढ़ल जाता बड़े बड़े खाई

रतिया अन्हरिया में पड़े ना दिखाई

अस मन करेला जहर हम खाईं

बाकिर तोर मुँह परि जाला दिखलाई

का कहीं ए हरिचरना के माई !

 

बबुआ बेमार बाटे मिले ना दवाई

देखे सभ लोग बाकिर भीरी नाहीं आई

लीलेला समइया बनल बैरी बाबू माई

कांटक के करेज कुहुँकेला कसमसाई

का कहीं ए हरिचरना के माई !

 

Hey, like this? Why not share it with a buddy?

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


About us

भोजपुरी भाषा, साहित्य, संस्कृति  के सरंक्षण, संवर्धन अउर विकास खातिर, देश के दशा अउर दिशा बेहतर बनावे में भोजपुरियन के योगदान खातिर अउर नया प्रतिभा के मंच देवे खातिर समर्पित  बा हम भोजपुरिआ। हम मतलब हमनी के सब। सबकर साथ सबकर विकास।

भोजपुरी के थाती, भोजपुरी के धरोहर, भूलल बिसरल नींव के ईंट जइसन शख्सियत से राउर परिचय करावे के बा। ओह लोग के काम के सबका सोझा ले आवे के बा अउर नया पीढ़ी में भोजपुरी  खातिर रूचि पैदा करे के बा। नया-पुराना के बीच सेतु के काम करी भोजपुरिआ। देश-विदेश के भोजपुरियन के कनेक्ट करी भोजपरिआ। साँच कहीं त साझा उड़ान के नाम ह भोजपुरिआ।


Contact us



Newsletter

Your Name (required)

Your Email (required)

Subject

Your Message