बुढ़िया माई

बुढ़िया माई

By:
Posted: December 14, 2021
Category: आलेख
Comments: 0

लेखक: जयशंकर प्रसाद द्विवेदी

१९७९ - १९८० के साल रहल होई , जब बुढ़िया माई आपन भरल पुरल परिवार छोड़ के सरग सिधार गइनी । एगो लमहर इयादन के फेहरिस्त अपने पीछे छोड़ गइनी , जवना के अगर केहु कबों पलटे लागी त ओही मे भुला जाई । साचों मे बुढ़िया माई सनेह, तियाग आउर सतीत्व के अइसन मूरत रहनी , जेकर लेखा ओघरी गाँव जवार मे केहु दोसर ना रहुए । जात धरम से परे उ दया के साक्षात देवी रहनी । सबका खाति उनका मन मे सनेह रहे , आउर छोट बच्चन खाति त उ सनेह के दरिया रहनी । बाक़िर उनकर  जीवन सुरुए से दुख आउर दरद के लमहर बवंडर ले के आइल रहे ।

बुढ़िया माई के बचपन के नाम त राजेश्वरी रहल । उनकर नइहर खुसहाल आउर भरल पुरल रहे। बालपन त सबही के हंसी-खुसी में बीतिए जाला , उनकरो बीत गइल । फिर गवें गवें उनका बियाह के खाति लइका के खोज होखे लागल । उनका दुनो भाई , बाबू , चाचा - पीती लोग जीउ  - जाँगर से जुट गइल रहे । आखिर एक दिन लइको मिल गइल , पढल – लिखल नीमन संस्कारी परिवार से रहल उहो । खूब धूम-धाम  से बरात आइल आउर उनकर बियाह  हो गइल । लेकिन ओहि दिन से जइसे उनका सुख चैन मे केहु के नजर लाग गइल । उ मरद जेकर उ मुहों ना देखले रहस , बियाहे के चार महीने के भीतरी मू गइलें । ओहि दिन से उनका नइहरे में बिधवा के बस्तर पहिने के पड़ गइल । अपना मरद के सुख आउर साथ का होला , उनका भीरी जीए के एको छन नसीब ना भइल ।

एक त बिधवा लइकी ऊपर से नइहर में रहल , गाँव जवार मे त बहुते शिकाइत के बात होला । उनकर भाई उनके ससुरारी जा के लइकी के बिदाई खाति निहोरा कइल लोग । बाकि आपन लइका खोवला क दरद आउर ऊपर से गाँव समाज मे होखे वाला खुसुर फुसुर से तंग उहो लोग हामी ना भरलस । थक हार के बात पंचइती में गइल , पंच लोग समहुत हो के ई निर्णय कइलस कि बात के लइकी के ऊपर छोड़ दिआव , लइकी चाहे त दुनों परिवार मिल के दोसर बियाह करावे या फेरु ससुरारी जाइल चाहे त ससुरारी वाला लोग बिदा करा के ले जाव । वैधव्य आउर सुहागिन होए क चुनाव रहल , बाक़िर ओकरे बादो उ बिधवा बन के रहल मंजूर कइली । बिधवापन के आपन किस्मत आउर ससुरारी के आपन करम भूमि मान के उ ससुरारी आ गइली

बुढ़िया माई अपना घरे यानि ससुरारी मे एगो बिधवा नीयन अइनी । उहवाँ अइला के बाद सबका के आपन बानवे ला सगरी उताजोग कइनी आउर कामयाबों भइनी । घर के दशा संभारे खाति उनका कई गो निरनय लेवे के परल । अपना साहस से उ हर लीहल निरनय सफल बनवली । उनकर पहिलका निरनय छोट देवर के बियाह करावल रहल । बुढ़िया माई घर मे सबसे बड़ रहली , से सभे केहु उनका से सउंजा जरूर करसु । उनका परयास से घर में खुसी लवटल । देवरानी के साल भर मे बेटा क जनम भइल , खूब खुसी मनावल गइल , सोहर गवाइल , बायन बटाइल । आपन कुले गोतिया दयाद नेवतबों कइली । बाक़िर बुढ़िया माई से बीपत के त जइसे चोली दामन के साथ रहे , बेटवा जब ४ बरीस के भइल तब उनकर देवरो साथ छोड़ गइलन । अब घरे मे दु गो बिधवा मेहरारू , एगो छोट बच्चा , एगो उनका सबसे छोटका देवर , अइसन हालत मे अइला के बाद घर सम्हारल आउर मुसकिल हो जाला । बुढ़िया माई त सती नीयन जीवन जीयते रहनी , उनका देख उनकर सबसे छोटका देवरो जिनगी भर बियाह न करे क ठान लीहने ।

बुढ़िया माई क समय के संगे संघर्ष जारी रहल । अब घर आउर बाहर ,खेती बारी के कुल्हि जीमवारी दुनों लोग अपना अपना सीरे ले लीहलस । एह तरे जिनगी के गाड़ी आगे घसके लागल । बुढ़िया माई दिन रात लइका के परवरिस करसु अउर घर सम्हारे में लाग गइलिन, काहे से कि उनका देवरानी आपन मानसिक संतुलन  अपना मरद के जइते खो चुकल रहनी । बुढ़िया माई ओह लइका पर आपन कुल्हे दुलार लूटा दिहली । अब उहे लइका पूरे घर खनदान के चिराग रहल । लइका के देख- भाल आउर ओकर नीमन परवरिस दीहल बुढ़िया माई के जीवन के सार बन गइल । बुढ़िया माई ओहमे सफलों भइनी । समय क चकरी त कबों न रुकेला । धीरे धीरे उ लइकवो बियाह जोग हो गइल। बुढ़िया माई फेनु अपना के एगो नवकी जिमवारी खाति तइयार कइली । लडिका क बियाह भइल , बुढ़िया माई लडिका के माँई आउर बाबू दुनों के फरज निभवलीन । बहुरिया के नचिगो न बुझाये दीहनि कि उ आपन सासु ना बानी । उ त बहुरिया खाति सग महतारी से बढ़ के हो गइनी ।

गवें-गवें समय बीतत रहे , बुढ़िया माई घर आउर बाहर के सगरी जिमवारी अपने सिरे ओढ़ लिहली , काहें से कि उनकर सबसे छोटकों देवर जवन ओह घरी घर मे अक्सरुआ  सवांग रहलन  , एगो दुर्घटना के चपेट मे आ गइलन । चलहूँ  फिरे जोग नाही बचलन । ओहि घरी घर मे एगो नवका मेहमानो आवे वाला रहल । नियति के का मंजूर बा, ई कोई ना जनेला । नवका मेहमान बेटवा के रूप में घर में आइल । ई समाचार एक बेरी फेरु से घर मे गीत गवनई , सोहर , बायन के दिन लउटा दीहलस । बाक़िर खाली दु – चार दिन खाति , पंचवे  दिन उनका छोटको देवर उनका साथ छोड़ गइलन । शायद इहो दुख बुढ़िया माई के ओतना नाहीं दुखी कइलस , जेतना दुखी उ आपन जिनगी मे अपना देवर के एगो बात के मान लीहनी । उ घटना बुढ़िया माई के जीवन के अइसन घटना रहल जवना के उ कबों न भुला पवली । एक दिन अइसन भइल कि उनका देवर उनका के बोलवलन, आउर कहलन कि सुनत हऊ  हमरे लगे कुछ रूपिया हउवे , एके तू अपना  दिन रात खाति रख ला । कहे से कि हम अब कुछे दिन के मेहमान बानी , ई रूपिया तहरा काम आई । का पता बा कि जवने लइका पतोह में तू दिन रात एक कइले बालू , ओहनी के तोहरे बुढ़ाई मे तोहार सेवा टहल करिहन सन कि नाही । ई सुनते बुढ़िया माई रोवे लगलिन आउर उ अपने लइका के बोलाय के कहनी कि ए बचवा सुनत हउवा , तोहार छोटका बाबू कुछ रूपिया रखले बाड़न , उ तोहरा से छुपा के हमरा के देवल चाहत बाड़न । सुना ए बचवा , एगो तिल्ली लिया के ओह रूपिया मे तू आगी लगा द । हमरा के उ रूपिया ना चाही । अगर हमरा आपन ए लइका के पाले पोसे मे कवनों कमी होखल होई , त ऊपर वाला एगो आउर दुख दे दी , लेकिन उहो हमरा खाति कम्मे होखी । उनकर ई बात सुनके ओह घरी घर मे मौजूद सभे कोई रोवे लागल । अइसन रहनी उ बुढ़िया माई । अजुओ ले उनकर कहल कुल्हि बातन के लछिमन रेखा नीयन उनका घर मे मानल जाला । धन्य रहनी उ बुढ़िया माई आउर धन्य बा ओह घर के लोग जिनका के देवी नीयन बुढ़िया माई के सँग मिलल ।

Hey, like this? Why not share it with a buddy?

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


About us

भोजपुरी भाषा, साहित्य, संस्कृति  के सरंक्षण, संवर्धन अउर विकास खातिर, देश के दशा अउर दिशा बेहतर बनावे में भोजपुरियन के योगदान खातिर अउर नया प्रतिभा के मंच देवे खातिर समर्पित  बा हम भोजपुरिआ। हम मतलब हमनी के सब। सबकर साथ सबकर विकास।

भोजपुरी के थाती, भोजपुरी के धरोहर, भूलल बिसरल नींव के ईंट जइसन शख्सियत से राउर परिचय करावे के बा। ओह लोग के काम के सबका सोझा ले आवे के बा अउर नया पीढ़ी में भोजपुरी  खातिर रूचि पैदा करे के बा। नया-पुराना के बीच सेतु के काम करी भोजपुरिआ। देश-विदेश के भोजपुरियन के कनेक्ट करी भोजपरिआ। साँच कहीं त साझा उड़ान के नाम ह भोजपुरिआ।


Contact us



Newsletter

Your Name (required)

Your Email (required)

Subject

Your Message