national_flag_6759728_835x547-m.jpg

Hum BhojpuriaOctober 12, 20211min1390

मनोरंजन प्रसाद सिन्हा

सुन्दर सुघर भूमि भारत के रहे रामा,

आज इहे भइल मसान रे फिरंगिया

अन्न धन जल बल बुद्धि सब नास भइल

कौनों के ना रहल निसान रे फिरंगिया

 

जहॅवाँ थोड़े ही दिन पहिले ही होत रहे,

लाखों मन गल्ला और धान रे फिरंगिया

उहें आज हाय रामा मथवा पर हाथ धरि,

बिलखि के रोवेला किसान रे फिरंगिया,

 

सात सौ लाख लोग दू-दू साँझ भूखे रहे,

हरदम पड़ेला अकाल रे फिरंगिया

जेहु कुछु बॉचेला त ओकरो के लादि लादि,

ले जाला समुन्दर के पार रे फिरंगिया

 

घरे लोग भूखे मरे, गेहुँआ बिदेस जाय,

कइसन बाटे जग के व्यवहार रे फिरंगिया

जहॅवा के लोग सब खात ना अधात रहे, रूपयासे

रहे मालामाल रे फिरंगिया

 

उहें आज जेने-जेने आँखिया घुमाके देखु, तेने, तेने

देखबे कंगाल रे फिरंगिया

बनिज-बेपार सब एकहू रहल नाहीं,

सब कर होइ गइल नास रे फिरंगिया

 

तनि-तनि बात लागि हमनी का हाय रामा,

जोहिले बिदेसिया के आसरे फिरंगिया

कपड़ों जे आवेला बिदेश से त हमनी का

पेन्ह के रखिला निज लाज रे फिरंगिया

 

आज जो बिदेसवा से आवे ना कपड़वा त

लंगटे करब जा निवास रे फिरंगिया

हमनी से ससता में रूई लेके ओकरे से

कपड़ा बना-बना के बेचे रे फिरंगिया

 

अइसहीं दीन भारत के धनवा

लूटि लूटि ले जाला बिदेस फिरंगिया

रूपया चालिस कोट भारत के साले-साल,

चल जाला दूसरा के पास रे फिरंगिया

 

अइसन जो हाल आउर कुछदिन रही रामा,

होइ जाइ भारत के नास रे फिरंगिया

स्वाभिमान लोगन में नामों के रहल नाहीं,

ठकुरसुहाती बोले बात रे फिरंगिया

 

दिन रात करे ले खुसामद सहेबावा के,

चाटेले बिदेसिया के लात रे फिरंगिया

जहॅवाँ भइल रहे राणा परताप सिंह

और सुलतान अइसन वीर रे फिरंगिया

 

जिनकर टेक रहे जान चाहे चलि जाय,

तबहु नवाइब ना सिर रे फिरंगिया

उहॅवे के लोग आज अइसन अधम भइले,

चाटेले बिदेसिया के लात रे फिरंगिया

 

सहेबा के खुशी लागी करेलन सब हीन,

अपनो भइअवा के घात रे फिरंगिया

जहवाँ भइल रहे अरजुन, भीम, द्रोण,

भीषम, करन सम सूर रे फिरंगिया।

 

उहें आज झुंड-झुंड कायर के बास बाटे,

साहस वीरत्व दूर भइल रे फिरंगिया

केकरा करनिया कारन हाय भइल बाटे,

हमनी के अइसन हवाल रे फिरंगिया

 

धन गइल, बल गइल, बुद्धि आ, विद्या गइल,

हो गइलीं जा निपट कंगाल रे फिरंगिया

सब बिधि भइल कंगाल देस तेहू पर,

टीकस के भार ते बढ़ौले रे फिरंगिया

 

नून पर टिकसवा, कूली पर टिकसवा,

सब परटिकस लगौले रे फिरंगिया

स्वाधीनता हमनी के नामों के रहल नाहीं,

अइसन कानून के बाटे जाल रे फिरंगिया

 

प्रेस एक्ट, आर्म्स एक्ट, इंडिया डिफेन्स एक्ट,

सब मिलि कइलस ई हाल रे फिरंगिया

प्रेस एक्ट लिखे के स्वाधीनता छिनलस,

आर्म्स एक्ट लेलस हथियार रे फिरंगिया

 

इंडिया डिफेंस एक्ट रच्छक के नाम लेके,

भच्छक के भइल अवतार रे फिरंगिया

हाय हाय केतना जुवक भइलें भारत के,

ए जाल में फांसे नजरबंद रे फिरंगिया

 

केतना सपूत पूत एकरे करनावा से

पड़ले पुलिसवा के फंद रे फिरंगिया

आजो पंजबवा के करि के सुरतिया,

से फाटेला करेजवा हमार रे फिरंगिया

 

भारते के छाती पर भारते के बचवन के,

बहल रकतवा के धारे रे फिरंगिया

छोटे-छोटे लाल सब बालक मदन सब,

तड़पि-तड़पि देले जान रे फिरंगिया

 

छटपट करि-करिबूढ़ सब मरि गइलें,

मरि गइलें सुधर जवान रे फिरंगिया

बुढ़िया महतारी के लकुटिया छिनाइ गइल,

जे रहे बुढ़ापा के सहारा रे फिरंगिया

 

जुवती सती से प्राणपति हाय बिलग भइल,

रहे जे जीवन के आधार रे फिरंगिया

साधुओं के देहवा पर चुनवा के पोति-पोति

रहि आगे लंगटा करौले रे फिरंगिया

 

हमनी के पसु से भी हालत खराब कइले, पेटवा के

बल रेंगअवले रे फिरंगिया

हाय हाय खाय सबे रोवत विकल होके,

पीटि-पीटि आपन कपार रे फिरंगिया

 

जिनकर हाल देखि फाटेला करेजवा से,

अँसुआ बहेला चहुँधार रे फिरंगिया

भारत बेहाल भइल लोग के इ हाल भइल

चारों ओर मचल हाय-हाय रे फिरंगिया

 

तेहु पर अपना कसाई अफसरवन के

देले नाहीं कवनो सजाय रे फिरंगिया

चेति जाउ चेति जाउ भैया रे फिरंगिया से,

छोड़ि दे कुनीतिया सुनीतिया के बांह गहु,

भला तोर करी भगवन्त रे फिरंगिया

 

दुखिआ के आह तोर देहिआ भसम करी,

जूरि-भूनि होइ जइबे छार रे फिरंगिया

ऐही से त कहतानी भैया रे फिरंगी तोहे,

धरम से करू ते बिचार रे फिरंगिया

 

जुलुमी कानुन ओ टिकसवा के रद क दे,

भारत के दे दे तें स्वराज रे फिरंगिया

नाहीं त ई सांचे-सांचे तोरा से कहत बानी, चौपट

हो जाई तोर राज रे फिरंगिया

 

तेंतिस करोड़ लोग अंसुआ बहाई ओमें

बहि जाई तोर सभराज रे फिरंगिया

अन्न-धन-जन-बल सकल बिलाय जाई,

डूब जाई राष्ट्र के जहाज रे फिरंगिया


img903.jpg

Hum BhojpuriaOctober 12, 20211min1170

सूर्येन्दु मिश्र

तिरबेनी नाम रहे उनकर लेकिन गांव के लोग उनके तिबेनिया के नाम से ही जाने। तिरबेनी लरिकाईये से गाँव के बाकी लड़िकन से अलगे बुझात रहलें। कवनो काम होखे चाहे खेलकूद उनकर मुकाबिला उनकरी उमिर के लड़िका लो ना क पावे।

उनकर बाबू जी छबीला पांडे सरकारी महकमा में एगो अच्छा पद पर काम करत रहलें। वो घरी अंग्रेजन के राज रहे आ उहे देश के मालिक रहलें कुल। पांडे जी के इच्छा रहे कि उनकर कुल के चिराग खूब पढ़-लिख के कौनो ऊंच ओहदा पर नौकरी करें…लेकिन पूत के पांव पलनवे में नूं लउक जाला।

तिरबेनी जब कुछ बड़ भइले त कबो कबो  गोरून के चरवाही में भी जाये लगलें। एक दिन जब सब चरवाहा लोग बांधी पर बइठ के बतियावत रहले त तिरबेनी भी उनकर बात सुनें लगलें। एक जाना बुजुर्ग कहल शुरू कइलें…

” देख लोग ई अंगरेजन के हुशियारी सरवा अइलें सन बयपारी बन के घिघिआत आ आजु उहे ए देश के राजा बनिके पूरा देश के अपनी अंगूरी पर नचावत बाड़े सन।”

दूसरा जाने बोललन- “ठीक कहs तारs भाई, अब त ई हाल बा कि जे ई गोरन के खिलाफ बोलता ओकरा के उ तुरंते फांसी पर लटकवा दे तारेसन। पंजाब में त उ क्रांतिकारी लोग के तोपे के मुंह में बान्हि के उड़ा दिहलन ह सन।”

इन्हन के एतना अत्याचार बढ़ गइल बा कि ढाका में अपने देश के कारीगरन के हाथे कटवा देलेसन। ओ लोगन के हाथ से बनल मलमल के पूरा थान एगो अंगुठी से निकल जात रहे ।

तिरबेनी चरवाहा लोगन के बात बड़ी ध्यान से सुनत रहलें। उनका से ना रोकाइल तब पूछ लिहलें ….

“काका, ई कारीगर लोग के हाथ काहे कटवा दिहले? उनके त बहुत खून निकलल होई ?

दुखी काका -“आरे तोरा ना बुझाई रे बबुआ…. उ कारिगरन के रहते अंगरेजी कंपनी के माल बिकईबे ना करित।”

तिबेननी कहलन-” एम्मे कौन बात रहे, सब लोग मिलके कंपनी के माल ख़रीदबे ना करी त कंपनी खुदे बन्द हो जायी।”

दुखी काका – उ त ठीक बा लेकिन अपनिये देश के लोग जब गद्दार बा त का करबा ?”

“काका एकर मतलब हमरा ना बुझाईल”

दुखी काका- ” तहरा ना नू बुझाई, तू त बड़ा बाप के बेटा हउवs, तहार बाप अंग्रेजन के नौकरी करेलन। उ अंग्रेजन के खिलाफ कबो जा सकेलेन ? एहितरे सबके आपन आपन सवारथ बा। कुछ लोग विरोध में जाला त बहुत लोग गोरन के तलुआ चाटे खातिर लाइनी में खाड़ रहेला।”

तिरबेनी के ई बात भीतर जा के समा गइल। दूसरे दिन जब उनकर बाप नौकरी पर जाये खातिर तैयार होत रहलन त उ उनसे पूछलें – “बाबूजी रउवा अंग्रेजन के गुलामी करेनी का ?

उनकर बाबूजी अपनी बेटा के मुंह से ई बात सुनके भौचक्का हो गइले ।

पूछे लगलें- “तोहरा से ई के कहल ह, हम नौकरी करेनी त तनख्वाह पावेनी, नौकरी गुलामी थोड़े ना होला।”

…. लेकिन तिरबेनी उनके ए बात से संतुष्ट ना भइले।

कहे लगनें….” लेकिन बाबू जी जवन अंगरेज अपने देश के लोग के हाथ कटवा दे तारें सन, तोपे से उड़ा दे तारे सन आ भारतमाता के नाम लिहला पर फांसी पर चढ़ा दे तारे सन उनहन के नौकरी त देश के साथे गद्दारी कहल जाई।”

तिरबेनी के मुंह से अइसन बात सुन के  बाबूजी कुछ बोलले बिना घर से बाहर निकल गइलें  बाकी एतना त उनके नीमन से बुझा गइल रहे कि त्रिवेणी के मन में गोरन के खिलाफ विद्रोह के चिंगारी सुलुग रहल बा।

समय के साथ तिरबेनी जब कुछ और बड़ा हो गइलें तब उनकर दाखिला स्कूल में हो गइल। तिरबेनी तेज दिमाग के रहले, उनकर पढाई अपनें क्लास में आगे आगे चले।  धीरे-धीरे जब उ हाईस्कूल में पहुंच गइले….ओहि समय उनके हाथ कुछ अइसन किताब हाथे लागल जेकरा के पढला के बाद उनके मन में अंग्रेजन के खिलाफ विद्रोह के चिंगारी धधके लागल। अब त उनकर मन पढ़ाइयो से उचाट हो गइल रहे। त्रिवेणी के बात-बेवहार में परिवर्तन देख के उनकर बाबूजी चिंतित रहे लगलें। कवनो बाप अपनी बेटा के खुशहाल जीवन देखल चाहेला ..एकरा खातिर उ समाज के नियम-नेत के भी ताक पर रख देला। तिरबेनी के बाबूजी उनके कई बार ई समझावे के कोशिश कइले कि अंग्रेजन के खिलाफ बगावत सोचल शेर के मुंह में हाथ डलला अस बा लेकिन तिरबेनी के ऊपर उनकी बात के कवनो असर ना भइल।

एहि बीचे, एक दिन अपने स्कूल में एगो समारोह में तिरबेनी के कुछ बोले के मौका मिल गइल।  जब उ बोले खातिर खड़ा भइलन त आपन संबोधन वंदे मातरम से शुरू कइलन। जब उ ब्रिटिश हुकूमत के बघिया उघारल शुरू कइलन त वो समारोह में आइल अंग्रेज अधिकारी बौखला गइल आ मंच से उतरे के संदेशा भेजववलस लेकिन उ आपन बात कहिए  के उतरलन। उनके आवाज में इतना जोश रहे कि उनकर कुछ सहपाठी लोग भी बीच-बीच मे उनके वंदे मातरम आ भारत माता की जय के नारा खूब लगावल लो।

बाद में अफसर के आदेश पर तिरबेनी  के साथे उनके पांच गो और साथिन के नारा लगावे खातिर स्कूल से निकाल दिहल गइल।

तिरबेनी के स्कूल निकलला के खबर जब उनके बाबूजी के मिलल त उ आपन माथा पीटे लगलें। उनके समझावे के एगो कोशिश फेरु कइलें लेकिन तिरबेनी अपनी इरादा से टस से मस ना भइलन।

पढ़ाई छुटला के बाद तिरबेनी पर देशभक्ति के नशा अउर गहिरा गइल। अब उ धीरे-धीरे क्रांतिकारिन के मीटिंग में भी जाए लगले। उनकर जोशीला भाषण आ लगन देखि के उनका के एगो गुट के मुखिया बना दिहल गइल।

एही बीचे तिरबेनी के बाप ओ समय फइलल प्लेग के महामारी में स्वर्गवासी हो गइले। ए प्लेग के महामारी आ साथे पड़ल अकाल दुनों में अंग्रेजन आ जमीनदारन के करिया चेहरा उजागर हो गइल रहे।

धीरे-धीरे समय के साथे तिरबेनी के साथ कुछ नामी विद्रोही लोगन से हो गइल रहे। उनके गुट के लोग हथियार खरीदे खातिर आ पार्टी के काम की खातिर छोट-मोट डकैती भी डाले लागल रहे।

उनकी गुट के ई नियम रहे कि धनी आ जमींदार लोग देशद्रोही बनके जवन धन दौलत बटोर के रखता, ओईमे गरीब के भी हिस्सा होखे के चाहीं।

अब, एक के बाद एक डकैती लूट में उनकर नाम आवे लागल। पुलिस कई बेर गांव में छापा मरलस लेकिन तिरबेनी के परछाइयों ना पवलस। तिरबेनी के ना पकड़इला के कारण इहो रहे कि उ कबो अपनी इलाका में लूटमार ना करस। दूसरे, गरीबन के बेटी के कन्यादान उ खुद आ के करें। उनकरी पैसा से उनकर महतारी कबो अपनी खातिर कुछ ना लिहली बहुत गरीबी में आपन गुजर बसर करस।

एहि बीच में उनके बारे मे पुलिस के पक्का सूचना मिलल कि उनकी गुट के लोग के मीटिंग एगो उखि के खेत मे चलता। एगो तेज तर्रार अफसर मय फोर्स लेके उ खेत के घेर लिहलस आ तिरबेनी के गिरफ्तार क लिहलस। तिरबेनी के गिरफ्तारी से जवार के लोग बहुत दुखी रहे लेकिन अंग्रेजन की शक्ति के आगे सब लोग डेरइबो करे।

जब एगो अफसर उनसे पूछलस कि डकैती के समान कहाँ छुपवले बाड़s? त उ अपने पिछुआरे के खेत बता दिहलन। पुलिस मय फोर्स वो खेत के कई बेर खोदववलस बाकी उहवाँ से एगो फुटल कौड़ी भी ना मिलल।

जब उ अंगरेज अफसर खिसिया के  फेर पूछलसि–  “जब कुछ खेते में ना रहे त बेकार में खेते के खोदाई काहे करववल ह।”

“सरकार, हमार दू गो महतारी बाड़ी, एगो जवने ख़ातिर हमरा के फांसी होखे जाता। दूसर, जवन हमके जनम देले बिया। हमरी ना रहले के बाद उ ओहि खेत में कुछ बो-उपराजके खा सकी। एहि से हम अइसन कहनीं ह। हम जवन धन लुटले बानी ओके देश आ मजलूम लोग के सेवा में खर्च क देले बानी।”

उ अफसर के लगे अब कौनो सवाल ना रहे आ जबाब लोर बनके उनकी आंख से  टपके लागल।

आज भी जवार के लोग तिरबेनिया के बुध्दिमानी आ देशप्रेम के याद करेला।


images-1.jpg

Hum BhojpuriaOctober 12, 20211min1280

लेखक- मनोज भावुक

अमन वतन के बनल रहे बस, हवा में थिरकन बनल रहे बस

इहे बा ख्वाहिश वतन के धरती, वतन के कण-कण बनल रहे बस

जब बात वतन में अमन के होई त देशभक्ति के बात होखबे करी। जब देशभक्ति के बात होई त राजनीतिक, कूटनीतिक आ सीमा सुरक्षा के हाल-चाल भी होई। सिनेमा में भी भइल बा।

रउआ बॉलीवुड के फिलिम देखब त सीधा पता चली कि भारत के सबसे बड़ दुश्मन पाकिस्तान बा, ओकरा बाद चीन बा। शुरुआती दौर के बॉलीवुड फिलिम में अंग्रेजन के कइल जुल्म आ शासन के केंद्र में रख के खूब फिलिम बनल। ओकरा बाद भारत पाकिस्तान के बीच युद्ध पर फिलिम बने लागल। धीरे-धीरे फिलिम कूटनीति, गुप्तचर, सीमा-सुरक्षा आ बंटवारा पर फोकस होखे लागल। बाद में राजनीतिक स्थिति बदलल, आतंकवाद के बोलबाला भइल त देशभक्ति फिलिम के केंद्र में जिहाद, आतंकवाद अउरी अलगाववाद के स्थान मिलल। बॉलीवुड में खेल से जुड़ल अउरी स्वतंत्रता सेनानी के ऊपर आधारित फिलिम भी देशभक्ति के रंग में रंगके बनल बा। बॉलीवुड के देशभक्ति फिलिम में मनोज कुमार, राजकुमार, धर्मेन्द्र, सनी देओल, आमिर खान फेर अक्षय कुमार, जॉन अब्राहम जइसन स्टार खूब फिलिम बनवलें अउरी बनावsतारें।

बात अगर हॉलीवुड के होखे त अमेरिका में बने वाला ज्यादातर पेट्रियोटिक फिलिम वॉर-फिलिम होला जे में युद्ध के महिमा-मंडन होला। एकरा पीछे अमेरिका के राजनीतिक स्थिति भी बा। सभके पता बा कि अमेरिका विश्व के सबसे बड़ हथियार सप्लायर देश ह। मार्वल सिनेमैटिक यूनिवर्स जवन अपना सुपर हीरो फिलिम सीरीज जइसे आयरनमैन, कैप्टन अमेरिका आ एवेंजर्स खातिर जानल जाला, ओकरा केंद्र में भी हथियार अउरी युद्ध ही बा। आयरनमैन कहाये वाला टोनी स्टार्क के कैरेक्टर भी त अमेरिका के सबसे बड़ आ आधुनिक हथियार निर्माता बा। अइसहीं पाकिस्तान में बनल देशभक्ति फिलिम के केंद्र में कश्मीर के भारत से छीने के पाकिस्तानी मंशा रहेला। हिंदुस्तान से कवनो अनजान दुश्मनी के बदला रहेला। इहेे हाल हर देश के फिलिमन के बा। रउआ कहीं के अउरी कौनो भाषा के सिनेमा उठा लीं, ओकरा देशभक्ति फिलिम में तत्कालीन राजनीतिक, सामाजिक अउरी कूटनीतिक समस्या आ इतिहास के कवनो राष्ट्रीय मुद्दा ही थीम होला। देशभक्ति फिलिम में रिसर्च के बड़ा काम होला लेकिन भोजपुरी सिनेमा में ई रिसर्च गायबे रहेला।

एही तरह भोजपुरी भी एगो बड़ आ फलत-फूलत सिनेमा इंडस्ट्री बा, जवना के निर्माता-निर्देशक लोग में हाल के कुछ साल से देशभक्ति फिलिम बनावे के होड़ मचल बा। लेकिन अगर रउआ हॉलीवुड-बॉलीवुड के भूमिका पढ़ के सोचत होखब कि भोजपुरी में भी अइसहीं राजनीतिक परिदृश्य देखावत देशभक्ति फिलिम बन रहल बा, त रुक जाईं, राउर सोचल गलत साबित होई। भोजपुरी के देशभक्ति फिलिम अपना अलग ही परी-कथा अउरी परिस्थिति के निर्माण कइलेबा। भोजपुरी के अधिकांश देशभक्ति फिलिम के हीरो पाकिस्तान जाता अउरी उहां के एगो सुन्दर मुस्लिम लड़की ले आवता भा पाकिस्तानी लड़की भारत आवतिया आ एगो देशभक्त आ वन मैन आर्मी टाइप लड़का से टकरा जा तिया। उ लड़की के भारतीय लड़का से प्यार हो जाता। उ ओकरा घर-परिवार में रच बस जा तिया। फेर वापस अपना वतन पाकिस्तान लौट जा तिया आ लइका अपना प्यार के पावे खातिर भा देश के दुश्मन आ अपना प्यार के दुश्मन पाकिस्तानी से लड़े खातिर बिना वीजा-पासपोर्ट, पाकिस्तान में बहुत आसानी से घुस जाता। पाकिस्तानी सेना आ आतंकवादी के नाक से चना चबवावता आ पाकिस्तानी दुलहिनिया लेके भारत आ जाता। ई जवन हम एगो कॉमन कांसेप्ट बतवनी ह, इहे पिछला कुछ साल में आइल अधिकांश भोजपुरी फिलिम के पटकथा के आधार बा। अपवाद हर जगह होला, ओइसहीं इहां भी बार्डर-सिक्योरिटी आ आर्मी के ऊपर कुछेक फिलिम बन गइल बा। भोजपुरी फिलिम के स्त्री-विरोधी मानसिकता एह देशभक्ति फिलिमन में भी कवनो ना कवनो रूप में प्रकट होता। अगर रउआ ई देशभक्ति फिलिमन में हॉलीवुड-बॉलीवुड जइसन गंभीर बात, राजनीतिक आ कुटनीतिक विमर्श आ कवनो सार्थक सन्देश ढूंढे के कोशिश करब त लगभग नाकामी ही मिली। फिर भी, भोजपुरी में देशभक्ति फिलिम बनऽता आ बनावे के कोशिश होता त एह कोशिश के सराहना होखे के चाहीं, काहें कि पिछला दौर में त एको देशभक्ति फिलिम बनावे के कोशिश नइखे भइल।

भोजपुरी के देशभक्ति फिलिम

भोजपुरी सिनेमा में ज्यादातर देशभक्ति फिलिम ‘भारत-पाकिस्तान’ के केंद्र में रख के बनल बा। एकर शुरुआत 2015 में दिनेशलाल यादव निरहुआ के फिलिम ‘पटना से पाकिस्तान’ के बनला से भइल रहे। ए फिलिम के लेखक आ निर्देशक संतोष मिश्रा बाड़ें। ए फिलिम के कहानी कबीर नाम के एगो युवा के बा जे आंतकवादी द्वारा कइल बम विस्फोट में अपना पूरा परिवार के खो देता। उ आतंकवादियन के खिलाफ आपन लड़ाई में पहिले सरकार से मदद मांगता, जवना पर सरकार के कवनो खास प्रतिक्रिया नइखे होत। ओकरा बाद भी उ निराश नइखे होत बल्कि अकेलही पाकिस्तान जा के आतंकवादी सन के खिलाफ लड़ाई लड़ता। एही बीच ओकर मुलाकात शहनाज नाम के एगो लड़की से होता। ए दूनो जाने के बीच धीरे-धीरे इश्क हो जाता। आगे के कहानी भी बहुते दिलचस्प बनल बा। एह फिलिम के सफलता भोजपुरी में देशभक्ति फिलिम के ट्रेंड शुरू कर देहलस। फिलिम में निरहुआ के प्रेमिका के भूमिका में काजल राघवानी रहली जिनके बम विस्फोट में मौत हो जाता। पाकिस्तानी लड़की के रोल में आम्रपाली दुबे रहली।

ई त बात भइल ट्रेंड शुरू करे वाला फिलिम के। एकरा से पहिले अगर भोजपुरी फिलिम के पुरनका दौर के बात कइल जाव त ओ काल में अइसन कौनो उल्लेखनीय फिलिम नइखे जेकरा के देशभक्ति फिलिम के तमगा देहल जाव। बाकी आधुनिक दौर शुरू भइल त एगो फिलिम जरूर आइल रहे ‘आपन माटी आप देश’। 2009 के ई फिलिम में रविकिशन आ हिंदी टीवी के नामचीन कलाकार सुदेश बेरी मुख्य भूमिका में रहलें। फिलिम के दूसर बड़ कलाकार में सुरेन्द्र पाल आ सिकंदर खरबंदा रहे लोग। फिलिम के कहानी एगो किसान आ जवान के रहे। उहे किसान जब खेत में होखे त किसान आ जब सीमा पर जाए त जवान। फिलिम में ई समस्या के भी दिखावल गइल रहे कि कइसे एगो जवान देश खातिर अउर अपना लोग खातिर सब कुछ त्याग के सीमा पर लड़ेला आ उहे समाज के कुछ लोग ओकरा पत्नी, परिवार के परेशान करेला।

विशुद्ध आर्मी वाला एगो अउर फिलिम 2018 में पवन सिंह के आइल रहे। उ फिलिम के नाम रहे ‘मां तुझे सलाम’। असलम शेख द्वारा लिखित अउर निर्देशित ई फिलिम भी ब्लॉकबस्टर साबित भइल। फिलिम लगभग 17 करोड़ के लागत से बनल आ सिनेमाघर में सफल रहल। फिलिम के निर्माण यशी फिल्म्स कइलस। एह फिलिम में पवन सिंह बजरंगी अली खान के एगो अइसन किरदार में बाड़न जे हर धरम के समान मानता। एह फिलिम में आगे, जब भारत पर आतंकवादी हमला होता त बजरंगी अली खान पाकिस्तान के साजिश के खिलाफ उठ खड़ा होता। एह फिलिम में पवन सिंह के साथे मधु शर्मा, अक्षरा सिंह, सुरेंद्र पाल जइसन कलाकार भी बाड़न।

खेसारी के एगो फिलिम ‘आतंकवादी’2017 में रिलीज भइल रहे। एह फिलिम से खेसारी बहुते वाहवाही बटोरले रहलन। शुभी शर्मा उनका साथे लीड रोल में रहली। भारत पाकिस्तान ही मुख्य विषय रहे।

भारत-पाकिस्तान अउरी पाकिस्तानी लड़की के इर्द-गिर्द बनल फिलिम में कई गो नाम बा जवन निरहुआ के ‘पटना से पाकिस्तान’ के बाद बनल। चिंटू पाण्डेय के ‘दुल्हन चाहीं पाकिस्तान से’- एक अउरी दू, विशाल सिंह के ‘ले आइब दुलहिनिया पाकिस्तान से’, रानी चटर्जी के ‘इलाहाबाद से इस्लामाबाद’, यश मिश्र के ‘इंडिया वर्सेज पाकिस्तान’ अउर विक्रांत सिंह के ‘पाकिस्तान में जय श्री राम’ आदि।

देशभक्ति फिलिमन के होड़ में निरहुआ भी आपन बैनर तले एगो फिलिम ‘बॉर्डर’ बनइलन। एह फिलिम के निर्देशक संतोष मिश्रा बाड़न। ई एगो मल्टीकास्ट फिलिम रहे अउर भोजपुरी सिनेमा के देशभक्ति फिलिमन में मील के पत्थर साबित भइल।

पवन सिंह के ‘गदर’ फिलिम अपना गीत खातिर बड़ा मशहूर भइल बाकी एकरो कहानी कमोबेश पाकिस्तान में जाके उहां के लड़की से इश्क कइला के रहे। फिलिम में पवन सिंह एगो ब्राह्मण के बेटा रहलें जे धर्म-कर्म में काफी ध्यान देता आ ओकरा एगो पाकिस्तानी मुसलमान लड़की से प्यार हो जाता।

निरहुआ के 2019 में एगो देशभक्ति फिलिम ‘शेर-ए-हिंदुस्तान’ मार्च के समय में आइल जवन भारत-पाकिस्तान के कहानी से हटके भारत-नेपाल के सीमा से हो रहल आतंकी घुसपैठ आ तश्करी पर आधारित रहे। फिलिम के लेखक-निर्देशक मनोज नारायण विषय बदललें, जवन अच्छा बात बा। फिलिम में निरहुआ एगो कमांडो के भूमिका में रहलें। उनका अपोजिट हीरोइन नीता धुन्गना रहली जे नेपाली फिलिम इंडस्ट्री के बड़ नाम बाड़ी।

पवन के 2019 में दूगो फिलिम आइल। एगो ‘क्रेक फाइटर’ आ दूसरका ‘जय हिन्द’। ‘क्रेक फाइटर’ एगो एक्शन फिलिम ह लेकिन एकरा कहानी में देशभक्ति के थोड़ा सा रंग बा। फिलिम में पवन सीक्रेट सर्विस के एजेंट के रोल में बाड़ें जे आपन पहचान छुपा के एगो ड्राइवर के रूप में रहऽता लेकिन माफिया के ई असलियत पता चल जाता। ई फिलिम लगभग 3 करोड़ के लागत से बनल आ सिनेमाघर में अच्छा कलेक्शन कइलस। उनके दूसरका फिलिम ‘जय हिन्द’ देशभक्ति फिलिम रहे आ एहमें वापस से पाकिस्तान वाला रंग रूप देखावल गइल रहे।

इहे कुछ उल्लेखनीय देशभक्ति फिलिम बा जवन भोजपुरी में बनल। देशभक्ति फिलिम बनावल एगो गंभीर आ शोधपरक काम ह जवना पर भोजपुरी फिल्मकार आ लेखक लोग ध्यान नइखे देत। भोजपुरी में भी अउर भाषा के इंडस्ट्री जइसन तनी गंभीरता से आ विषय के गहनता से अध्ययन करके देशभक्ति भा राजनीतिक फिलिम बनित त कुछ अच्छा अउरी फ्रेश सिनेमा दर्शकन के मिलित।


images-5.jpg

Hum BhojpuriaOctober 12, 20211min1480

आकाश महेशपुरी

युग युग से भारत के महिमा

गावत ई सकल जहान हवे

ई भारत देश महान हवे

 

पूरा भारत घर आपन हऽ

घर में सबके आराम मिले

एही घरवा में मिले हवा

भोजन पानी अविराम मिले

बा जनम मिलल ये धरती पर

ई धरती सबकर जान हवे-

ई भारत देश महान हवे

 

 

ना मनइन में बा भेद इहाँ

जइसे कुरान बा वेद इहाँ

जे जाति-धरम में बांटेला

दीहल जाला ऊ खेद इहाँ

मिल-जुल के सभे रहे हरदम

भाईचारा पहिचान हवे-

ई भारत देश महान हवे

 

बा ताजमहल आ लालकिला

एलोरा आ जंतर मंतर

बा किसिम किसिम के भारत में

मंदिर मस्जिद आ गिरिजाघर

युग युग ले नूर रही एकर

जइसे सूरज आ चान हवे-

ई भारत देश महान हवे

 

 

सागर शीतलता दे ताटे

आ माथे सजल हिमालय बा

नदिया, झरना बा हरियाली

दुनिया तऽ एकर कायल बा

ई कोयल के हऽ मधुर गीत

आ कलियन के मुस्कान हवे-

ई भारत देश महान हवे

 

गांधी, गौतम, अब्दुल कलाम

बा कृष्ण राम के नाम इहाँ

नानक आ महावीर स्वामी

कइले बालो सदकाम इहाँ

ई धरती सूर कबीरा के

आ तानसेन के तान हवे-

ई भारत देश महान हवे

 

जे जहवे बा ऊ तहवे से

लागल बा देश सजावे में

वैज्ञानिक खोजे में लागल

अभियंता देश बनावे में

सैनिक सीमा पर पहरा दे

खेती में डटल किसान हवे-

ई भारत देश महान हवे

 


national_flag_6759728_835x547-m.jpg

Hum BhojpuriaOctober 12, 20211min1270

रजनी रंजन

( एक )

 

दे दिहले देशवा पर जान, हमरा देशवा के वीर महान
मनवा में देश प्रेम अँखिया में रोष भरी,चली दिहले सीना के तान

हो हमरा देशवा के वीर जवान

 

उ का जानें ओहीपार लोगवा, कब से लगइले बा घात हो
बात बे बात पे गोली दागे, सीमा सिहरे सारी रात हो
भारत माँ पर लाल नेछावर, होके रखलन मान हो
हमरा देशवा के वीर जवान

 

जब जब फोन के घंटी बाजे, धड़के जियरा हियरा काँपे

सुन के खबरिया पूत शहीद के, बूढी माँ हे राम के जापे

गोरी के चूड़ी ना बोले, ना रसघोले कान हो

हमरा देशवा के वीर जवान

 

सूनी गोद बा सूना अंगना, सूना सब संसार हो

सूनी अंखियां सूनी सेजरिया, छुटल सब सिंगार हो

आज दुलरूआ सुतल बारन, देके आपन बलिदान

हो हमरा देशवा के वीर जवान

 

 

सुन के खबरिया लाल के जान के, जियरा भइल दुई फाड़

तबहूँ मनवा गरब करत बा, झंडा ललन दिहले गाड़

जान गँवइले देश के खातिर, सभके बढा के सम्मान

हो हमरा देशवा के वीर जवान

 


old_feedspbekcec8jzxzde1sdfdwgqhqxh8dmjcw.jpg

Hum BhojpuriaOctober 12, 20211min5510

डॉ. आदित्य कुमार अंशु

मंगल पाण्डेय बलि भूमि के

नगवा गाँव के लाल रहलन

कुछ मनई जनम भूमि पर

नवका-नवका विवाद कइलन

 

 

इतिहास में जे वीर बा

ओकर अमिट कहानी बा

सन् सन्तावन के क्रांति के

मंगल पाण्डेय बलिदानी बा

 

 

अंगरेजन के अत्याचार जब

झाँसी में बढ़े लागल,

रानी लक्ष्मीबाई से तब

वीर मंगल के प्रेरणा जागल

 

झाँसी के धन लूट-पाट  के

नेल्सन जब ले जात रहे,

कर्मा जइसन वीरन के

छाती फाटत जात रहे

 

मंगल पाण्डेय खातिर कर्मा

जान के बाजी लगा दिहले

एही खातिर गोरी सरकार

उनका के बड़हन सजा दिहले

 

मंगल पाण्डेय के जब लागल

हमनी संग अत्याचार होता,

कारतूस में गाय सूअर के

चरबी भी लगावल जाता

 

क्रांति के लाल जाग गइल

आपन स्वाभिमान बचावे के

मन ही मन संकल्प लिहलें

अंगरेजन के मजा चखावे के

 

मार-पीट जब शुरू भइल

बैरकपुर के छावनी में,

हिन्दू मुस्लिम जाग गइल

अपनी जोशे जवानी में

 

मंगल वीरा जब देखले जे

हमनी के सम्मान घटी,

मातृभूमि की रक्षा खातिर

हम वीरवन के शीश चढ़ी

 

हुंकार भरी के टूट पड़लन

गोरा अफसर की छाती पर

खिसियाइल अंग्रेज़ी सेना

भारत के हर प्रानी पर

 

गुपचुप ढंग से फाँसी दिहले

बलिया के वीर बाँकुरा के

मचल तूफान नींद खुल गइल

अंगरेजन की बड़का आका के

 

शत शत नमन कारीलां हमहू

नमन करेला देश सुजान

जन-जन के होठन पर बाटे

जे दिहलीं रउआ बलिदान

 

 

आईं-आईं  फेरु भाई

बलिया आज बोलावता,

करुण कहानी भारत आपन

रो के आज सुनावता

 


download-1.jpg

Hum BhojpuriaOctober 12, 20211min1300

डॉ० रामसेवक ‘विकल’

 

अंगरेजन के शोषन के बढ़ि गइल पाप के जब आगार

तब भारत के भी कण-कण में उमड़ल जोस के पारावार

सन् सन्तावन के बदला लेबे खातिर के वीर तैयार,

जूझलन ताल ठोकि रन भीतर हो सब घोड़न पर असवार

 

अस्सी बरिस के बबुआ कुवँर सिंह रहलन बलवान,

गरजि सिंह की नियर लड़ाई में जगलन ले जोस पुरान

जागि गइल जगदीसपुर औ गाँव जवार शहर जागल,

बच्चा, बूढ़ा, नर, नारी सब नवहन के किस्मत जागल

 

गंगा जागलि, जमुना जागलि, सरयू के आँचल जागल,

जन जन में अभिमान जागल,आ सबल वीर भारत जागल

बलिया जागल, आरा जागल, गाजीपुर छपरा जागल,

संतावन के वीरन के तब गर्म खून गौरव जागल

 

रणभेरी बाजे लागल तब, बाजल महत नगाड़ा ढोल,

गुँजि उठल जयगान विजय के पहुँचल गगन बीच जयबोल

एह राजपूती हाड़ माँस में दुर्गा जी के वास भइल,

रणचंडी काली करालिनी के भी आशीर्वाद भइल

 

थहराईल शासक दल तब औ अफसर सब भइलें हैरान,

गरमाइल देशी नवहन में आजादी के उमड़ल प्रान

काँपि गइल ब्रिटिश के शासन लार्ड गवर्नर माने हार,

ई राजपूती शान कबो ना मानें केहू के ललकार

 

शाहनशाह कुवँर महाराजा शिवपुर में पहुँचल रहलन,

हाथी ले गंगा मईया में कूदि पार होखत रहलन

बीच नदी में जबै पहुँचलन, बाँहि में एक गोली लागल,

अंगरेजन की गोली से तब हाथ में विष फैले लागल

 

काटि हाथ के बुढऊ दादा गंगा जी के दे दिहलन,

हँसत-हँसत गंगा मैया के आपन कर बलि दे दिहलन

गंगा की लहरिन में भैया, जय जय के मधुर गीत भरल,

तीन-तीन पर लगल लहर में कुवँर सिंह के प्रीत भरल

 

जाके पार नरेश कुवँर रण दलन से मिलि हँसि के कहलन,

चलऽ लड़े के बा हो बाबू! जोस भरल जय-जय कहलन

जब डगलस ले आपन सेना, पहुँचल आरा के मैदान,

तब मचि गइल महान युद्ध जगदीसपुर में भी घमसान

 

एने बिहारी वीर बाँकुड़ा रहलन कुवँर सिंह बलवान,

ओने लुगाई और डगलस के रहलन सब सैनिक सैतान

लड़ि भिड़ि के देसवा के खातिर कुँवर सिंह बलि हो गइलन,

मारि के अमर महत् जीवन पा भारत में धनि हो गइलन

आवs आज गीत गाईंजा अवर करीजा जय जय कार

वीर कुवँर सिंह बलिदानी के करीजा सब युग में सत्कार


images-6.jpg

Hum BhojpuriaOctober 12, 20211min1200

डॉ. मञ्जरी पाण्डेय

 ( एक )

 

सोनवा से सुग्घर बाटे ई आपन देस हो

रुपवा अस चम-चम चमकै ई आपन देस हो

 

मटिया उगिलै सोना हथवा लगाईं लs

सोनवा अस बलिया फरकै छोड़ा परदेस हो

 

खेती किसानी हवे देसवा के सान हों

सहरी बघार छोड़s बदला अब भेस हो

 

बेद पुरान  एइजा बाँचल  रटल जाला

भइलें  महान जिन्ही लिहलें  हs लेस  हो

 

सोलह संसकार रोजे बीनल बोवल जाला

सहरी किरिनियाँ से जनि डारs मेस हो

 

सागर चरन चूमे मथवा परबत हो

बारी- बारी कुलही मौसम के देस हो

 

जोग अs तन्तर के बड़ा गणतन्तर

जग में मिसाल नाहीं परब क. देस हों

 

तुलसी दल पाई कान्हा बंसी बजावै हो ,

हर- हर महादेव गूँजत जयदेस हो

 

             (दू )

 

जिनिगिया तहरे नांवे  लिखी गइल बाटे

खेतवा में धान  अब पाक गइल बाटे

 

लिखि-लिखि  पतिया  पठवत रहलीं

अँखिया  कै  लोरवा  ओतने पीयत रहलीं  ‘

अखरवा ई हाल सज्जी जान गइल बाटे

खेतवा में धान…..

 

सहत-सहत  मेहना सुखि  गइल बाटीं

काँचे  उमिरिया से बाँचि  गइल बाटीं

बचलै उमिरिया जवाल  भइल बाटे

खेतवा …..

 

लिपि पोति अँगना  जोहत बाँटीं

जिनिगी के कन्हवा  पर ढोवत  बाटीं

रहिया डगरिया बवाल भइल बाटे

खेतवा ……

 

सबके बखरवा में बाँटि  गइल बाटीं

तहरे बखरवा में जीयत बाटीं

अंचरवा का लाज ई सवाल भइल बाटे

खेतवा ……

 

फोनवा जिनिगिया कै ख़ास भइल बाटे

आवे क  खबरिया आस भइल बाटे

सेन्हुरा लिलरवा  हवाल भइल बाटे


indian-flag-np.jpg

Hum BhojpuriaOctober 12, 20211min850

डा० नीलिमा मिश्रा 

(एक)

बैरी चीन की गलवान पे नजरिया

बैरी चीन की गलवान पे नज़रिया ई हमका बेइमान

लागेला ।

पाकिस्तान की कसमीर  पे नज़रिया ई हमका

सैतान लागेला ।।

 

उबलत बानी खून रगन में  सुनला ई  हुंकार ।

वीर देस के  सेर सरीखे जिन करिहा तकरार ।।

भड़की ज्वाला हमरे सीने में बिजुरिया

ई हमका तूफान लागेला ।

बैरी चीन की गलवान मे नज़रिया ई बड़ा बेइमान

लागेला ।।

 

फहरााइब हम अपन तिरंगा अब बीजिंग में जाकर ।

दिल्ली की सरकार से टक्कर जिन लेहलू तू आकर ।।

दस के बदले लेइब  चालीस की खबरिया

ई हमका इमतिहान   लागेला ।

बैरी चीन की गलवान पे नज़रिया ई हमका बेइमान

लागेला ।।

 

भगतसिंह सुखदेव राजगुरू सब दिनलिन  कुरबानी ।

दुर्गा मैया जैसन रहलीं  झाँसी वाली रानी ।।

हल्दीघाटी वाली याद करीं डगरिया

ई हमका स्वाभिमान लागेला

बैरी चीन की गलवान पे नज़रिया ई हमका

बेईमान लागेला

 

( दू )

जागा-जागा भारतवासी 

 

जागा-जागा भारत वासी, सुना लगाके कान ।

मांगत बाटे देश की माटी , तोहरा बालि दान ।।

 

वीर बहादुर घर से निकला, हो जाईं तैयार।

सन बासठ के बदला ख़ातिर, कर दुश्मन पे वार।

याद करा तू आपन सगरो गौरव के इतिहास ।

हिम्मत कइके आगे बढ़ तू मन में धर विसवास।।

नेताजी सुभाष के निसदिन,करें सभी गुणगान ।

जागा जागा भारत वासी, सुना लगाके कान ।।

 

याद करा हल्दीघाटी की राणा की हुंकार ।

झाँसी वाली रानी की भी,याद करा तलवार ।।

भगतसिंह सुखदेव राजगुरू, वीर दिए बलिदान ।

जय- जय भारत माँ की, कइके दीन्हेन अपनी जान ।

जागा जागा भारत वासी, सुना लगाके कान ।

 

संगम के माटी की गाथा, लिख दीन्हें आजाद ।

गोली के आवाज़े से गूंजा, सगरा इलाहाबाद ।।

वापिस हमका चाही तिब्बत,और पाक-  कश्मीर ।

सीमा पे फहराओ तिरंगा ,ओ बाँके रणवीर ।।

हर शहीद के कुरबानी के, क़ीमत ला पहिचान।

जागा जागा भारत वासी, सुना लगाके कान ।

 

विश्व गुरू भारत कहिलाए, ऊँचा कइके माथ ।

चलें देश के  बच्चा-बच्चा, झंडा लइके हाथ ।।

बीजिंग तक पहुँचावा भइया, दिल्ली के ललकार ।

आर -पार की होई लड़ाई ,अबकी बल भर वार ।।

एक वीर के बदले लेइबे ,हम  सौ-सौ की जान ।

जागा जागा भारत वासी, सुना लगाके कान ।।

 

जय-जय-जय- जय बोलो मिलिके, भारत देश महान ।

धन्य-धन्य भारत की भूमि, भारत की संतान ।।

 


images-4.jpg

Hum BhojpuriaOctober 12, 20211min1510

शशि कुमार सिंह प्रेमदेव

( हिंदुस्तान के आजाद करवला में बलिया ज़िला क अभूतपूर्व योगदान इतिहास में दर्ज बा। सन् बयालीस के ‘ भारत छोड़ो ‘ आंदोलन का दौरान, जवन तीन गो जनपद कुछ दिन खातिर अंग्रेजी हुकूमत के धकिया के आजाद हो गइल रहलन सs ,ओह में बलिया सबसे आगे रहे। बाद में, बलियाटिकन के एह् कारनामा का बारे में सुनि के कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष मौलाना अबुल कलाम आजाद कहले रहीं — ” मैं बलिया की उस सरजमीं को चूम लेना चाहता हूं जहां इतने बहादुर और शहीद पैदा हुए !”  ) – संपादक

 

‘ नेह-छोह, बैराग, बगावत

इहवां के पहिचान !

बलिया जिला देश कs शान !!

 

०००

एह् माटी का कोख से जनमे  त्यागी-संत-बिरागी !

सोना-चानी  का  पाछा  ई  भागल  बा, ना भागी !

 

तपोभूमि  हs; जे  एकरा से  घात करी  ए, भाई !

सात जनम  तक  छाती पीटी, रोई  आ  पछताई !

 

बेसी ना कूदे-फानेला !

बलियाटिक एतने जानेला –

बैमानी का  धन-दौलत से  बढ़ि के बा  ईमान !! बलिया …

 

०००

 

डेग-डेग  पर  जंगे-आजादी  के  अमिट निशानी !

मंगल, चित्तू, कौशल, जेपी, शेखर-जस  अभिमानी !

 

कौनौ जुग आयी, दोहराई   एकर   गौरव-गाथा !

केतनो जोर लगवलस बैरी, हेठ भइल ना माथा !

 

लिलकरलसि जब तानि के सीना !

अंगरेजन कs छुटल पसेना !

असहीं ना ‘बागी’ कहि-कहि के दुनिया करे बखान !! बलिया…

 

०००

 

झारि के धोती-कुर्ता, कान्ही पर गमछा लटका के !

चले  त’ सइ गो  मनई  में  लउके बेटा बलिया के !

 

चाल नदी के धार मतिन, सुरहा* जस चाकर छाती !

आंखि मिलाके  बतियावे, जाने ना  ठकुर-सुहाती !

 

संघतिया असली मोका कs !

गुन गावे लिट्टी-चोखा क s !

ऊपर   से  सुकुवार-सुकोमल , भीतर  से   चट्टान !! बलिया…

 

०००

 

सोच-समझ के हमनीं  पs  हंसिहs तूं फेरु ठठाके !

कुछुवो कहला से पहिले पढ़ि लs इतिहास उठाके !

 

राजनीति, साहित्य, कला, विज्ञान  भा  खेती-बारी …

परल  बा  हरमेसा  बलियाबासी सबका पs भारी !

 

खबरदार ! जनि आंखि देखावs !

‘शशी’, अदब से  सीस झुकावs !

एह् धरती पर आके बौना* बनि जालन भगवान !! बलिया…

( सुरहा = बलिया जनपद के एगो विशाल ताल क नांव ; बौना= राजा बलि के परीक्षा लेबे खातिर वामन रुप धरिके भगवान विष्णु इहवां पधरले रहलन  )



About us

भोजपुरी भाषा, साहित्य, संस्कृति  के सरंक्षण, संवर्धन अउर विकास खातिर, देश के दशा अउर दिशा बेहतर बनावे में भोजपुरियन के योगदान खातिर अउर नया प्रतिभा के मंच देवे खातिर समर्पित  बा हम भोजपुरिआ। हम मतलब हमनी के सब। सबकर साथ सबकर विकास।

भोजपुरी के थाती, भोजपुरी के धरोहर, भूलल बिसरल नींव के ईंट जइसन शख्सियत से राउर परिचय करावे के बा। ओह लोग के काम के सबका सोझा ले आवे के बा अउर नया पीढ़ी में भोजपुरी  खातिर रूचि पैदा करे के बा। नया-पुराना के बीच सेतु के काम करी भोजपुरिआ। देश-विदेश के भोजपुरियन के कनेक्ट करी भोजपरिआ। साँच कहीं त साझा उड़ान के नाम ह भोजपुरिआ।


Contact us



Newsletter

Your Name (required)

Your Email (required)

Subject

Your Message